नई दिल्ली  : अब लोगों को अपने साथ ड्राइविंग लाइसेंस जैसे कागजाग  लेकर चलने से जल्द निजात मिल सकती है। आईटी एक्ट के प्रावधानों को हवाला देते हुए केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों, ट्रैफिक पुलिस को ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेटट और इंश्योरेंज के कागजात डिजिटल रूप में स्वीकार करने की एडवाइजरी जारी की। सरकार ने गुरुवार को जारी की गई एडवाइजरी में कहा कि यह कागजात डिजिलॉकर या mParivahan app के जरिए चेक किए जा सकते हैं।

सरकार ने कहा कि डिजिलॉकर में मौजूद इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड्स को कानूनी रूप से  ओरिजनल डॉकुमेंट्स की मान्यता देने का प्रावधान आईटी एक्ट-2000 में है। यह एडवाइजरी परिवहन मंत्रालय की ओर से जारी की गई है। मंत्रालय ने यह भी कहा कि डिजिटल रूप उपलब्ध डॉक्यूमेंट्स मोटर विहिकल एक्ट 1988 के तहत भी उतने ही वैलिड हैं जितना की ऑथोरिटी की ओर से  जारी किए गए लाइसेंस।


रिपोर्ट में कहा गया कि यदि ई- चालान एप पर इंश्योरेंस के डिटेल्स मौजूद हैं तो ऐसे में कागजातों की फिजिकल मौजूदगी जरूरी नहीं है।

ऐसे करेगा काम 

– पहले अपने मोबाइल में डिजिलॉकर या एमपरिवहन ऐप डाउनलोड कर अपने आधार नंबर से ऑथेन्टिकेट करें। 

-ऐप को डाउनलोड करने के बाद आपको साइन अप करना होगा। 

-साइनअप के लिए आप जैसे ही अपने मोबाइल नंबर को फीड करेंगे, वैसे ही आपके नंबर पर ओटीपी आएगा। जिसको भरने के बाद आपकी पहचान वेरिफाई होगे। 

– इसके बाद आपको लॉगइन के लिए अपना यूजर नेम और पासवर्ड सेट करना होगा। 

-इसके बाद आप अपना अकाउंट आधार नंबर से ऑथेंटिकेट करेंगे। अब आप अपने 12 अंकों वाले आधार नंबर को एंटर करेंगे। फिर आधार डेटाबेस में आपका जो मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड होगा, उस पर ओटीपी आएगा। उस ओटीपी को एंटर करने के बाद आधार ऑथेंटिकेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। 

इसके बाद आप डिजिलॉकर में अपने डॉक्युमेंट्स को सहेज सकेंगे। 

19ff8342-3586-423e-b8e8-4e82eb9d1ab4
pg
2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here