रायपुर।  प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा है कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक बतायें, भाजपा मोर्चा प्रकोष्ठों की बैठक में महासमुंद के पूर्व विधायक और पूर्वमंत्री पूनम चंद्राकर किस बात को लेकर उखड़े थे? 15 वर्षो की सत्तारूढ़ पार्टी के अंदर कार्यकर्ताओं की उपेक्षा बड़ा कारण दिखाई पड़ता है, जिससे भाजपा में लगातार अंदरूनी कलह सामने आने लगी है। मुख्यमंत्री और मंत्री की परिक्रमा करने वाले गैर छत्तीसगढ़वासियों का बढ़ता दबदबा स्थानीय भाजपा कार्यकर्ताओं की परेशानियां प्रमुख सुनाई पड़ती है। धरमलाल कौशिक जीती हुयी बाजी के हारे हुये मोहरे है, वे रबर स्टैम्प साबित हुयेे है। पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर, अ.जा.ज.जा. आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नंदकुमार साय, वरिष्ठ सांसद रमेश बैस, राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय, पूर्व सांसद सोहन पोटाई ने अनेको बार प्रदेश संगठन और सत्ता के निर्णयो पर उंगलिया उठाकर भाजपा के दिखावे अनुशासन को तार-तार कर दिया। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक पार्टी को एक जुट रखने को विफल रहे है। वर्ष 2013 विधानसभा के पश्चात प्रदेश के नगर निगम, नगर पालिक, जनपद, जिला पंचायत जैसे स्थानीय चुनावों में भाजपा प्रत्याशियों की करारी हार भी उनके दिशाहीन नेतृत्व का परिणाम है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक के बयान, प्रदेश में कांग्रेस के एक नहीं मुख्यमंत्री के कई दावेदार, पर चुटकी लेते हुये प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा कि राज्यसभा चुनाव के दरमियान उनके साथ नामंकन फार्म लेने के पश्चात जो बर्ताव भाजपा ने किया निहायती गलत था, भाजपा में अपनी बात अपनी परेशानी नहीं रख पाने की पीड़ा से ग्रसित उसी खिंझ के चलते, पीड़ित धरमलाल कौशिक विपक्षी दलो पे निकाल रहे है। धरमलाल कौशिक को अपने भविष्य की चिंता करनी चाहिये, 2013 के विधानसभा चुनाव में हार चुके है और भविष्य में चुनाव लड़े तो पूर्व की भाती परिणाम तय है। अच्छा होगा कि, वे भाजपा की चिंता करें  कांग्रेस की नही। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here