शिवपुरी। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने विजय संकल्प यात्रा के तहत बुधवार को ग्वालियर लोकसभा क्षेत्र के बैराड़ व भितरवार और भिंड-दतिया लोकसभा क्षेत्र के दतिया में आमसभा को संबोधित किया। बैराड़ कस्बे में दोनों नेताओं के भाषणों में पोहरी विधानसभा सीट हारने की टीस कई बार उभरी। 

पूर्व सीएम ने भाषण की शुरूआत, बीच और अंत में पोहरी सीट हारने का तीन बार जिक्र किया। पूर्व विधायक प्रहलाद भारती को सीधा-सादा बताते हुए शिवराज सिंह ने पोहरी-बैराड़ में उंगलियों पर एक-एक उपलब्धियां गिनाईं। फिर लोगों से पूछते हुए बोले कि ईमानदारी से मुझे बताना कि जितने विकास के काम पोहरी-बैराड़ के लिए शिवराज चौहान और भाजपा सरकार ने किए, क्या कभी कांग्रेस ने किए थे। थोड़ी सी कसर यहां भी रह गई, अगर थोड़े-थोड़े और मिल जाते, तीन ही सीट की तो कसर थी। लेकिन बन गई सरकार! बनी लंगड़ी लेकिन गजब ढा रही। दतिया में शाम को रोड शो और आम सभा हुई। यहां पर पूर्व सीएम सिंह और केंद्रीय मंत्री तोमर के अलावा पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी सभा को संबोधित किया।

नरोत्तम ने कहा कि इस बार के विधानसभा चुनाव कुछ विचित्र से हुए हैं। वोट भाजपा को ज्यादा मिले हैं और सीट थोड़ी सी कांग्रेस को ज्यादा मिल गई। लोकसभा क्षेत्र के हिसाब से देखें तो भाजपा 17 में आगे रही और कांग्रेस केवल 12 में आगे रही। लेकिन विधानसभा में 109 और 114 हो गया। सीट हमें थोड़ी से कम मिली, लेकिन बहुत उनका भी नहीं है। लेकिन जीते वो भी नहीं हैं। लंगड़ी सरकार बनी है, कोई पूरी थोड़ी न बनी है। लंगड़ी सरकार में बसपा, सपा और निर्दलीयों की बैसाखी है। ये हम नहीं, लोग कह रहे हैं। ये कब तक चलें और कब टपक जाएं, इसका कोई ठिकाना नहीं है। 

सांसद नरेंद्र सिंह तोमर ने क्षेत्र के विकास गिनाते हुए कहा कि हमारी कोई गलती रही होगी। इसलिए पोहरी विधानसभा क्षेत्र में  भारतीय जनता पार्टी नहीं जीत पाई। विधानसभा चुनाव में शिवराज सिंह के नेतृत्व में भाजपा का वोट बढ़ा। जो ये कांग्रेस की सरकार बनी है, स्वभाविक रूप से नहीं बनी, वोट के आधार पर नहीं बनीं। यह दुर्घटना के कारण और शिवराज सिंह की उदारता के कारण ये सरकार बनी है। वो सरकार बैसाखी पर खड़ी होगी, उस बैसाखी में जब भी कोई कांग्रेसी अपने घर में लात मार देगा तो भरभराकर वो सरकार गिर पड़ेगी और कमलनाथजी मुख्यमंत्री नहीं रहेंगे।

पूर्व सीएम ने कहा कि चुनाव आयोग जिस दिन लोकसभा चुनाव की घोषणा कर रहा था। उस दिन घोषणा शाम 5 बजे होना थी, कमलनाथ प्रार्थना कर रहे थे कि हे भगवान, आचार संहिता लगे तो जान छूटे, रोज कर्जा माफ। चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले ही 2 बजे मोबाइल पर मैसेज आ गए। आचार संहिता लग गई है, अब आचार संहिता के बाद कर्जा माफ होगा। सीएम टाइम काटू अभियान चला रहे हैं। नीले, लाल-पीले रंग के फार्म भरवा रहे थे कि जैसे तैसे लोकसभा चुनाव आ जाए और जान छूटे। कर्जा माफ करना है, बहुत साधारण रास्ता है। बैंकों में पैसा जमा कर दो। बैंक किसानों से कह दें कि तुम्हारा पैसा माफ। ठग लिया इस कांग्रेस ने।

पिछले दिनों शिवपुरी के प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह के पेंशन को लेकर दिए गए बयान पर भी शिवराज सिंह ने कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि एक मंत्री बूढों को पेंशन बीड़ी तंबाकू का इतंजाम होने की बात कह रहे हैं। कैंसर करवा दो सबको तंबाकू खिलवाकर। इनके राज में देशी शराब की दुकानों में अब विदेशी भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि चारों ओर भ्रष्टाचार है। संबल योजना में गरीबों का कफन तक खा गए। 5 हजार रुपए अंतिम संस्कार तक के नहीं दे रहे। 

 

source by DB

Untitled-3 copy
1
Untitled-1 copy
Untitled-1 copy

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here