नई दिल्ली : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी निसार अहमद तांत्रे को गिरफ्तार किया है। इसे 31 मार्च को भारत लाया गया। निसार 1 फरवरी 2019 को यूएई भाग गया था। निसार 2017 में कश्मीर के लेथपोरा में सीआरपीएफ कैंप पर हुए आतंकी हमले में मुख्य आरोपी है। हमले में 5 जवान शहीद हो गए थे। तब तीन हमलावरों को मार गिराया गया था।

निसार तांत्रे जैश के दक्षिणी कश्मीर का डिविजनल कमांडर नूर तांत्रे का भाई है। एनआईए लेथपोरा हमले की जांच कर रही है। एनआईए कोर्ट के स्पेशल जज ने निसार के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया था, जिसके आधार पर उसे यूएई से लाया जा सका। माना जाता है कि नूर तांत्रे ने घाटी में जैश को पैर जमाने में मदद की। दिसंबर 2017 में उसे एक मुठभेड़ में मार गिराया गया था। 

लेथपोरा केस में ही पुलवामा के अवंतिपुरा निवासी फैयाज अहमद मैग्रे को फरवरी में गिरफ्तार किया जा चुका है। हमले में जिन तीन आतंकियों को मार गिराया गया था, उनकी पहचान त्राल निवासी फरदीन अहमद खांडे, पुलवामा के द्रुबग्राम में रहने वाले मंजूर बाबा और पाकिस्तानी आतंकी अब्दुल शकूर के तौर पर की गई थी। शकूर पाक के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के रावलकोट का रहने वाला था। फैयाज जैश का सक्रिय सदस्य था। उसी ने हमले में शामिल आतंकियों को छिपने का ठिकाना, हथियार और खुफिया जानकारियां मुहैया कराईं।

बीते सालों में यूएई कई भगोड़ों को भारत को सौंप चुका है। यूएई अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर खरीद के मामले में रिश्वतखोरी के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल, मामले में कथित दलाल दीपक तलवार के अलावा आईएसआईएस के समर्थकों, इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी अब्दुल वाहिद सिद्दिबापा और 1993 मुंबई ब्लास्ट के आरोपी फारूख टकला जैसे आतंकियों को भारत को सौंप चुका है।

Untitled-3 copy
1
Untitled-1 copy
Untitled-1 copy

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here