नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले में निषाद पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर हमला कर दिया। निषाद समाज पार्टी के अध्यक्ष के स्वागत में खड़े कार्यकर्ताओं को रोकने पर शनिवार की शाम जमकर हंगामा हुआ। कठवांमोड़ चौराहे पर कार्यकर्ताओं ने जाम लगाकर बवाल काटा। वाहनों में तोड़फोड़ के साथ आगजनी की। देखते ही देखते आग बबूला कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। पथराव में एक सिपाही की मौत हो गई और कई घायल हैं। फोर्स के साथ पहुंचे आला अधिकारियों ने बवाल करने वाले लोगों को खदेड़ दिया। कुछ लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। 

प्रदेश अध्यक्ष संजय निषाद गाजीपुर से गुजरकर गोरखपुर की ओर जा रहे थे। उनके स्वागत के लिए समाज के काफी लोग कठवा मोड़ पुल के पास मौजूद थे। निषाद समाज के लोग अपने नेता के स्वागत के लिए मेन रोड पर आ गये थे। चूंकि पीएम की सभा से काफी गाड़ियां मुहम्मदाबाद की ओर जा रही थी। ऐसे में पुलिसकर्मियों ने निषाद समाज के लोगों को वहां से हटाने का प्रयास किया। इसी बीच किसी ने सूचना दी कि अंधऊ के पास स्वागत कार्यक्रम में मौजूद पांच लोगों को पुलिस ने पकड़ लिया है। इसके बाद निषाद समाज के लोगों की भीड़ उग्र हो गई और चक्काजाम कर दिया। पुलिस को देखते ही भीड़ ने पथराव शुरू कर दिया। पथराव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से लौट रहे भाजपा नेताओं की कारें और बस भी क्षतिग्रस्त हो गई।  पत्थर लगने से करीमुद्दीनपुर थाने में तैनात हेडकान्स्टेबल सुरेन्द्र वत्स  घायल हो गए। अस्पताल ले जाते समय उनकी मौत हो गई। 

एसपी यशवीर सिंह समेत एएएसपी सिटी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस के जवानों ने हल्का बल प्रयोग कर जाम को समाप्त किया। एसपी ने बताया कि घटना की सूचना मृतक के परिवार के लोगों को मोबाइल के जरिये दे दी गई है। इस मामले में मुकदमा दर्ज किया जायेगा। उन्होंने बताया कि बवालियों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। मारे गए सिपाही सुरेंद्र वत्स प्रतापगढ़ के लक्षीपुर-रानीपुर के मूल निवासी थे।

 

source by LH

Untitled-3 copy
Untitled-1 copy

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here