रायपुर : भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मोदी सरकार में केंद्रीय भूतल सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 2014 के लोकसभा चुनाव जीतने किस प्रकार से भाजपा ने झूठ का मायाजाल बुना था इसकी स्वीकरोक्ति जनता के सामने किया। इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि नितिन गडकरी ने कांग्रेस के आरोपों का समर्थन किया है।कांग्रेस ने भाजपा के राष्ट्रवाद रामराज्य के दावे पीछे छुपे धोखेबाज दगाबाज चाल चरित्र और चेहरे को हमेशा जनता के सामने रखा है। जो झूठ की बुनियाद में खड़ी भाजपा और मोदी सरकार का असल चेहरा जनता के सामने आ गया है की आखिर सत्ता पाने के लिए किस प्रकार से नरेंद्र मोदी भाजपा ने आजादी के बाद देश के चौमुखी विकास को नकार कर कांग्रेस को दोषी ठहराने का प्रयास किया और भोली भाली जनता को चुनाव में लच्छेदार भाषणों में वह सपने दिखाए जो हकीकत में धरातल से कोसों दूर था। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहां की नरेंद्र मोदी भाजपा सत्ता की लोलु पता में सत्ता पाने की हवस के अंधत्व ने देश को फर्जी राष्ट्रवाद और असल राष्ट्रवाद में बांट दिया। भारत के 1 सैनिक के सिर के बदले पाक के 10 सैनिकों का सिर लाने का दावा करती थी। पाकिस्तान जाकर भारतीय सैनिकों के खून से सने हाथों से बने हलवा खाती है। देश एवं विदेश में रखें अरबों रुपए का काला धन को लाकर देशवासियों के खाते में 15 लाख रुपए जमा कराने का वादा करती है दूसरी ओर नोटबंदी कर देशवासियों को नोट बदलने बैंकों में लाइन में लगा कर अपने समर्थित उद्योगपतियों सहयोगी के कालाधन को 45 प्रतिशत में सफेद करने योजना लेकर आती है और नोट बदलने लाइन में खड़े डेढ़ सौ से अधिक नागरिकों की मौत हो जाती है।कश्मीर से धारा 370 हटाने का वादा कर पत्थरबाजों के समर्थन करने वाली पार्टी के साथ सरकार बनाती है। 2 करोड़ युवाओं को प्रत्येक वर्ष रोजगार देने का वादा कर वादे से मुकर जाती है और नोटबंदी जीएसटी लागू कर करोड़ों लोगों के हाथ से रोजगार छीनने का काम करती है। 

प्रदेश कांगेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा रमन सिंह के चरित्र से छत्तीसगढ़ की जनता वाकिफ हो चुकी हैं। चुनाव जीतने भाजपा हर बार नया वादा करती है। किसानों को धान का समर्थन मूल्य 2100 रू. प्रति क्विंटल 300 रू. बोनस देने के बाद करने वाले रमन सिंह किसानों के हक अधिकार के जलायश के पानी को अपने उद्योगपति मित्रों को बेचती है। आदिवासी जनजाति पिछड़ा वर्गों कों मिले कानूनी अधिकारों को बदल कर उनके जल जंगल जमीन पर कब्जा करने का प्रयास करती है। 

Untitled-3 copy

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here