नई दिल्ली : यूपी बोर्ड परीक्षा के दूसरे दिन 15374 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। परीक्षा छोड़ने वाले सर्वाधिक 13435 परीक्षार्थी इंटरमीडिएट के हैं। इसके साथ ही शुरुआती दो दिनों में ही परीक्षा छोड़ने वाले परीक्षार्थियों की संख्या बढ़कर चालीस हजार से अधिक यानी 40392 हो गई है।
यूपी बोर्ड परीक्षा सात फरवरी से शुरू हुई है। 

शुक्रवार को पहली पाली में इंटरमीडिएट संगीत गायन, वादन, नाट्यकला और दूसरी पाली में संस्कृत, उर्दू, गुजराती सहित अन्य भाषाओं की परीक्षा की हुई जबकि पहली पाली में हाईस्कूल कृषि की परीक्षा भी हुई। बोर्ड सचिव की ओर से जारी सूचना के मुताबिक दूसरे दिन तीन परीक्षार्थियों को नकल करते हुए पकड़ा गया। तीनों इंटरमीडिएट के परीक्षार्थी हैं, जो संस्कृत की परीक्षा के दौरान नकल रहे थे। इनमें से सर्वाधिक दो छात्राएं और एक छात्र है। जालौन में एक छात्र और प्रयागराज और जौनपुर में एक-एक छात्राओं को नकल करते हुए पकड़ा गया।

निदेशक ने किया परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण
माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने शुक्रवार को जिले के परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण कर वहां की व्यवस्था देखी। निदेशक ने मलाक हरहर स्थित आरपी रस्तोगी इंटर कॉलेज, कौड़िहार के सरस्वती देवी परमानंद सिन्हा इंटर कॉलेज, जनता इंटर कॉलेज उल्दा, जीडीसीपी त्रिपाठी इंटर कॉलेज बिछिया का औचक निरीक्षण किया। 

डीआईओएस आरएन विश्वकर्मा ने बताया कि सभी केन्द्रों पर वायस रिकार्डर युक्त सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ था, जिसकी मानीटरिंग भी की जा रही थी। जनता इंटर कालेज उल्दा में वायस रिकार्डर से आ रही आवाज में घरघराहट सुनने को मिली। शिक्षा निदेशक ने केंद्र व्यवस्थापक को चेतावनी देते हुए वायस रिकॉर्डर में आ रही तकनीकी कमियों को दूर कराने के निर्देश दिए। शिक्षा निदेशक ने डीआईओएस दफ्तर के सर्वर रूम में जिले के सभी परीक्षा केंद्रों की ऑनलाइन निगरानी व्यवस्था की सराहना की। अफसरों को परीक्षा नकल विहीन, सुचितापूर्ण तरीके से संपन्न कराने के निर्देश दिए।

 

source by LH

Untitled-3 copy
Untitled-1 copy

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here